Home Tags सब्र

Tag: सब्र

फ़रेब, सब्र, तमन्ना, निबाह, मायूसी- रामरज फ़ौजदार

ज़ीस्त ने और भी गुलकरियाँ करना है अभी देखते जाओ नये दर्द उभरना है अभी फ़रेब, सब्र, तमन्ना, निबाह, मायूसी ज़िन्दगी है तो कई रंग से मरना...

Recent

साहित्य

This function has been disabled for लोकराग.