Saturday, June 15, 2024
Homeवेब स्टोरीशोधआईआईटी जोधपुर ने उत्तरी भारत में वायु प्रदूषण और स्वास्थ्य प्रभावों पर...

आईआईटी जोधपुर ने उत्तरी भारत में वायु प्रदूषण और स्वास्थ्य प्रभावों पर किया अभूतपूर्व अनुसंधान का प्रकाशन

जोधपुर (हि.स.)। वायु प्रदूषण एक गंभीर वैश्विक चुनौती बनी हुई है, जिसका दुनिया भर में लाखों लोगों के स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव पड़ रहा है । इस मुद्दे की तरफ दुनिया का ध्यान आकृष्ट करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) जोधपुर के शोधकर्ताओं ने नेचर कम्युनिकेशंस जर्नल में एक महत्वपूर्ण शोध प्रकाशित किया है, जिसमें उत्तर भारत में मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक पार्टिकुलेट मैटर के स्रोतों और संरचना पर प्रकाश डाला गया है।

सह-आचार्य और लेख की मुख्य लेखिका डॉ. दीपिका भट्टू का कहना है कि इस आम धारणा के विपरीत की समग्र पीएम द्रव्यमान को कम करने से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव कम होंगे, यह व्यापक अध्ययन स्थानीय अकुशल दहन प्रक्रियाओं जैसे कि बायोमास और जीवाश्म ईंधन के जलने, जिसमें यातायात उत्सर्जन भी शामिल है, को संबोधित करने के महत्व पर प्रकाश डालता है, ताकि उत्तर भारत में पार्टिकुलेट मैटर से संबंधित स्वास्थ्य जोखिम और उनके संबंधित प्रभावों को प्रभावी ढंग से कम किया जा सके। अध्ययन में तीन महत्वपूर्ण वैज्ञानिक प्रश्नों पर विचार किया गया है, जो राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम के तहत डेटा-आधारित, प्रभावी शमन रणनीति तैयार करने में भारतीय नीति निर्माताओं के लिए विचारणीय हैं। इसमें सूक्ष्म पीएम (पीएम 2.5) स्रोत की पहचान और उनका पूर्ण योगदान, साथ ही उनके स्थानीय और क्षेत्रीय भौगोलिक उद्गम के बीच अभूतपूर्व स्पष्टता, सीधे उत्सर्जित पीएम और वायुमंडल में बनने वाले पीएम के बीच एक व्यापक और स्पष्ट अंतर और अध्ययन क्षेत्र के भीतर स्थानीय और क्षेत्रीय स्रोतों के साथ इसकी ऑक्सीडेटिव क्षमता को सहसंबंधित करके पीएम की हानिकारकता का निर्धारण शामिल है।

उन्होंने बताया कि उन्नत एरोसोल मास स्पेक्ट्रोमेट्री तकनीक और डेटा एनालिटिक्स की शक्ति का लाभ उठाते हुए, दिल्ली के अंदर और बाहर पांच इंडो-गंगा मैदानी स्थलों पर अध्ययन किया गया और पाया गया कि हालांकि पूरे क्षेत्र में समान रूप से उच्च पीएम सांद्रता मौजूद है, लेकिन स्थानीय उत्सर्जन स्रोतों और निर्माण प्रक्रियाओं के कारण रासायनिक संरचना में काफी भिन्नता है, जो पीएम प्रदूषण पर हावी है । दिल्ली के अंदर, अमोनियम क्लोराइड और कार्बनिक एरोसोल सीधे यातायात निकास, आवासीय हीटिंग और वायुमंडल में उत्पादित जीवाश्म ईंधन उत्सर्जन के ऑक्सीकरण उत्पादों से उत्पन्न होते हैं, जो पीएम प्रदूषण पर हावी हैं। इसके विपरीत दिल्ली के बाहर अमोनियम सल्फेट और अमोनियम नाइट्रेट, साथ ही बायोमास जलने वाले वाष्पों से द्वितीयक कार्बनिक एरोसोल , प्रमुख योगदानकर्ता हैं । हालांकि, स्थान चाहे कोई भी हो, अध्ययन ने इस बात पर प्रकाश डाला कि बायोमास और जीवाश्म ईंधन के अधूरे दहन से कार्बनिक एरोसोल, जिसमें यातायात उत्सर्जन भी शामिल है, पीएम ऑक्सीडेटिव क्षमता में प्रमुख योगदानकर्ता हैं, जो इस क्षेत्र में पीएम से जुड़े स्वास्थ्य प्रभावों को बढ़ाता है। भारतीय पीएम 2.5 की ऑक्सीडेटिव क्षमता की तुलना करने पर चौंकाने वाले निष्कर्ष सामने आए हैं । भारतीय पीएम की ऑक्सीडेटिव क्षमता चीनी और यूरोपीय शहरों से पांच गुना तक अधिक है, जो इसे वैश्विक स्तर पर मौजूद सबसे अधिक ऑक्सीडेटिव क्षमता में से एक बनाती है।

डॉ. दीपिका भट्टू ने जोर देकर कहा कि भारत के वायु प्रदूषण संकट से निपटने के लिए स्थानीय समुदायों और हितधारकों के बीच सहयोग के साथ-साथ सामाजिक परिवर्तन की भी आवश्यकता है, खासकर दिल्ली जैसे घनी आबादी वाले शहरी क्षेत्रों में। इससे आगे बढ़ते हुए, ठोस टिकाऊ प्रयासों की आवश्यकता है जो स्वच्छ ऊर्जा स्रोतों को बढ़ावा दें, दहन दक्षता में सुधार करें और मुख्य रूप से पुराने, ओवरलोड और अक्षम वाहनों के बेड़े से परिवहन से उत्सर्जन को कम करें और अनधिकृत जुगाड़ वाहनों को हटा दें। यह अध्ययन भविष्य की पीढ़ियों के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य और पर्यावरण की सुरक्षा के उद्देश्य से साक्ष्य-आधारित नीतियों और हस्तक्षेपों के लिए मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान करता है।

टॉप हेडलाइंस

उज्जैन पुलिस की सट्टे पर बड़ी कार्रवाई, 15 करोड़ की नकदी और भारी मात्रा...

भोपाल (हि.स.)। उज्जैन पुलिस ने मध्यप्रदेश के इतिहास में सट्टे पर सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए अंतरराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस कार्रवाई...

भारत में सम्पन्न आम चुनाव पूरे लोकतांत्रिक विश्व की जीत: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी7 शिखर वार्ता में मौजूद विश्व नेताओं से कहा कि भारत में हाल में संपन्न आम चुनाव...

विद्या बालन का जबरदस्त ट्रांसफॉर्मेशन, घटाया कई किलो वजन

विद्या बालन बॉलीवुड की अग्रणी अभिनेत्रियों में से एक हैं। कई फिल्मों में अलग-अलग तरह की भूमिकाएं निभाने वाली विद्या बॉलीवुड में बिना किसी...

अनंत अंबानी की प्री-वेडिंग समारोह में ननद ईशा व राधिका का डांस वीडियो आया...

रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी के छोटे बेटे अनंत अंबानी की शादी का समारोह जुलाई महीने में होगा। इस भव्य समारोह में कई...

मेकर्स का शानदार ऑफर: सिर्फ 150 रुपये में देखें कार्तिक आर्यन की ‘चंदू चैंपियन’

अभिनेता कार्तिक आर्यन इस समय अपनी फिल्म 'चंदू चैंपियन' को लेकर सुर्खियों में हैं। स्पोर्ट्स ड्रामा फिल्म 'चंदू चैंपियन' भारत के पहले पैरालंपिक गोल्ड...

आलिया भट्ट एक बार फिर हुईं ‘डीपफेक’ का शिकार

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) दुनिया के लिए मुसीबत बनती जा रही है। कई बॉलीवुड सेलिब्रिटी डीपफेक वीडियो का शिकार हो रहे हैं। बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया...