Home Tags तीखा तीर

Tag: तीखा तीर

तीखा तीर

मजदूरों के अभाव में मुंबई हो रही परेशान, मजदूर पलायन कर रहे अब कौन करेगा काम, यूपी में काम मिलेगा, सुन योगी का पैगाम -वीरेंद्र तोमर

तीखा तीर

मिली विरासत में सत्ता थी लेकिन संजो न पाए जाति-पाति विष बो करके धरती-पुत्र के पुत्र कहलाये चाचा को ही धूल चटा दी अब बाबा से घबराये -वीरेन्द्र तोमर

तीखा तीर

बस हजार की बन सहयोगी चढके अटरिया कोसो योगी तोपों से माल निकालो थोड़ा-थोड़ा सबको दे डालो मजदूर तुम्हारा लेगा नाम कर लो जरा पुण्य का काम -वीरेन्द्र तोमर

तीखा तीर

एक दो, तीन अब चार लठ्ठातंत्र की जय जय कार वादों की लागी बौछार गरीब लुटा बीच बजार घर खातिर तरस रहा है कोरोना से लड़ रहा है -वीरेन्द्र तोमर

तीखा तीर

मदिरा वर्जित,पूर्ण शकाहारी उत्तम चरित्र, देश पुजारी मंत्रमुग्ध भाषण थी शैली विश्व विजित का इच्छाधारी क्रूरशासक,सनकी था हिटलर खोजो कहाँ जन्मा फिर हिटलर दीदी बन गई पुलिस इंस्पेक्टर -वीरेन्द्र तोमर

तीखा तीर

इकतीस देशों आ रहे वापस अपने देश वतन पराया छोड के कर बन्देमातरम उदघोष विकसित करो निज देश को मत जाना कभी विदेश विदेशी पैसा देश में डालो -वीरेन्द्र तोमर

तीखा तीर

हरा सिगनल हो गया चलने लगी अब रेल इन पर अमीर चलेगा नहीं गरीब का खेल, राजधानी से राज्यों को दौड़ेंगी सब पंद्रह मेल मध्यमवर्ग झेलें तालाबन्दी -वीरेन्द्र तोमर

तीखा तीर

कोरोना को हिंदुस्तान में गंगाजल करेगा नाश पवित्र जल में है मिश्रित, जड़ी बूटियां खास प्रयोग सफल यदि हो गया बिकेगा सोने के भाव -वीरेंद्र तोमर

तीखा तीर

मोदी, माल्या और चौकसी पैसा ले हुए फरार देने वाले ही पूछ रहे हैं जवाब दे सरकार, बात निज 'मन' से पूछो साझेदारों को ढूंढो, -वीरेन्द्र तोमर

तीखा तीर

पीएम ने दी मजदूर को राहत, घर वापसी उनकी चाहत वायरस ने नौकरी खाली पैसा बिना जेब हुई खाली सिंगल राशन कार्ड बनेगा, गरीब जय जय कार करेगा 1500000 को...

तीखा तीर

500 करोड़ चंदे का डंका बजा दो गुजरात में हमको है चुनाव की चिंता जनता जाए भाड़ में पप्पू मेरा बनेगा पीएम सपना देखा ख्वाब में -वीरेंद्र तोमर

Recent

साहित्य

This function has been disabled for लोकराग.