Home Tags सामयिक

Tag: सामयिक

भारतीय राजनीतिक जीवन में दल बदल की समस्या: मोहित कुमार उपाध्याय

राजनीतिक अर्थों में दल बदल का अर्थ किसी व्यक्ति का उस राजनीतिक दल को, जिसके टिकट पर वह निर्वाचित हुआ है, छोड़कर किसी अन्य...

निश्चितता विकल्प नहीं: पूजा झिरिवाल

'संघर्ष अथवा कोशिश तो अनिश्चितता की प्राप्ति हेतु है, जो निश्चित है, उसके लिए किया गया संघर्ष मात्र उत्सुकता और धैर्य के अभाव का...

आइए एक रक्षा की डोर अपनी कलाई पर भी बांधें: सुजाता...

समय बहुत सुगम है, समय बहुत निर्मम है। समय का पहिया चलता ही रहता है। बस समय अच्छा या बुरा होता है, इसलिए समय...

इक ज़िंदगी और जिएँ: सलिल सरोज

वैकल्पिक सोच के इस युग में, एक महत्वपूर्ण लड़ाई है जिसे हम सभी को लड़ना चाहिए, सेवानिवृत्ति के विचार के खिलाफ। एक समाज के...

अंतरराष्ट्रीय शांति के मार्ग में ड्रैगन का अतिक्रमण- मोहित कुमार उपाध्याय

हाल ही में पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गलवान घाटी में अतिक्रमण को लेकर भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प...

यूएनएससी में भारत की स्थायी सदस्यता का प्रश्न: नेहरू के संदर्भ...

हाल ही में भारत 8वीं बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अस्थायी सदस्य चुना गया है। भारत के अलावा मैक्सिको, आयरलैंड एवं नार्वे को...

योग: तन, मन, विचार, व्यवहार की अंतर्यात्रा- सुजाता प्रसाद

भारतीय संस्कृति में हमेशा प्रक्रिया पर जोर दिया गया है। अगर हम प्रक्रिया को ठीक तरीके से करेंगे तो सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। इसलिए हमें...

व्यायाम और उसका महत्व- रामसेवक वर्मा

ज्यादातर लोगों का यही सोचना है कि हम जितना अच्छा आहार लेंगे, हमारा स्वास्थ्य उतना ही अच्छा होगा। बात भी सत्य है लेकिन मनुष्य...

जल ही है जीवन का आधार- रामसेवक वर्मा

पृथ्वी पर उपस्थित समस्त जीव-जंतुओं और वनस्पतियों के लिए जल अत्यंत महत्वपूर्ण है क्योंकि जल के बिना कोई भी जैविक क्रिया संभव नहीं होती...

भारत को घेरने की ड्रैगन की साजिश: मोहित कुमार उपाध्याय

निस्संदेह यह बात सत्य हैं कि स्वयं को साम्यवादी कहकर इतराने वाला चीन विश्व समुदाय को वैश्विक महामारी का रूप लेने वाली कोविड- 19...

आत्महत्या…हत्या- भरत कनफ़

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या कर ली है। कारण बताया गया है कि काफी समय से वह डिप्रेसन में चल रहे थे। जिस...

आत्महत्या: आखिर क्यों- अनिल कुमार मिश्र

'आत्महत्या' एक ऐसा शब्द है जो निश्चित रूप से हमें विचलित कर अनेक अनुत्तरित प्रश्न हमारे मन के भीतर डाल देता है और हम...

मानसिक स्वास्थ्य और बढ़ती आत्महत्याएं- माज़िद अली

वो कायर था, बुज़दिल था, हालात का सामना नहीं कर सका, उसे अपने घर वालों की भी फ़िक्र नही थी, इसलिए उसने आत्महत्या कर...

देश के लिए कलंक है बाल श्रम की समस्या- राम सेवक...

आजीविका चलाने हेतु धन अर्जित करने के लिए जो भी शारीरिक परिश्रम किया जाता है वह श्रम कहलाता है। लेकिन जब यह काम दबाववश...

मास्कमय अब भोर है: डॉ सुनीता मिश्रा

विगत कुछ महीनो से हम सबकी दुनिया बहुत बदल गई है। कोविड-19 का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है और न इंसान...

जलवायु परिवर्तन: एक वैश्विक चुनौती- मोहित कुमार उपाध्याय

पर्यावरण संरक्षण के प्रति चिंता प्रकट करते हुए महात्मा गांधी ने कहा हैं कि पृथ्वी प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकता को पूरा कर सकती हैं...

Recent

साहित्य

This function has been disabled for लोकराग.