Home Tags Shalini singh

Tag: Shalini singh

मिले जो तुम्हें कभी- शालिनी सिंह

ढल जाती हैं हर साचें में क्या ये कमजोर होती हैं। या हर रूप को पा लेने की ओर होती हैं।। चाहा अनचाहा कुछ अपना नहीं होता। मिलता है सबकुछ बस कोई सपना...

Recent

साहित्य

This function has been disabled for लोकराग.