Home Tags पञ्चचामर छंद

Tag: पञ्चचामर छंद

कहो प्रिये- श्वेता राय

सुचंचला सुकोमला सुमंगला अहो प्रिये सुप्रीत रीत की कथा सुकंठ से कहो प्रिये अघोर घोर रात्रि में सुज्ञान ही विहान है डटे रहो सुवृत्ति से मनुष्य प्राणवान...

Recent

साहित्य

This function has been disabled for लोकराग.